23 June, 2017

दिल में उतर कर सारी हदें पार कर गया


वो कहते हैं वो बहुत अच्छे है शायद


आँखों में बस बसी है सूरत आपकी


अब आराम से सोये हैं तो जगाने आये हैं


अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ


दो कदम चलने के लिए साथ माँगा है


तब दिल के दर्द आँसू बन के जाते हैं